Navigation Menu

Latest Tweets

ieot



अभियांत्रिकी एवं समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान ( आईईओटी) की स्थापना वर्ष 1983 मे प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के उद्देशय और ओएनजीसी की भविष्य की योजनाओं के नवाचार, विकास और त्वरण के की गई थी।संस्थान ने मुख्य क्षेत्रों जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग, स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग, जोखिम और विश्वसनीयता इंजीनियरिंग, पदार्थ और क्षरण इंजीनियरिंग और वैकल्पिक ऊर्जा अनुभाग ( जिसकी स्थापना वर्ष 2012) में विशेषज्ञता विकसित की है।

आईईओटी द्वारा वर्ष 2019-20 में की गयी मुख्य आरएंडडी गतिविधियों की जानकारी :

  1. आईईओटी इन-हाउस विकसित सॉफ्टवेयर (iSIMPLE) के लिए सितंबर2019 में कॉपीराइट कार्यालय, भारत सरकार से कॉपीराइट प्राप्त किया। iSIMPLE को विशेष रूप से फिक्स्ड जैकेट अपतटीय संरचनाओं के सरलीकृत परम शक्ति विश्लेषण के लिए विकसित किया गया है। इस सॉफ्टवेयर के परिणामस्वरूप कार्य कुशलता में वृद्धि हुई है, विश्लेषण समय में पर्याप्त कमी आई है
  2. आईईओटी को मेसर्स बेंटले सिस्टम द्वारा दिनांक 21.08.2019 पर मुंबई में आयोजित “गोइंग डिजिटल इवेंट” में तेल एवं खनन श्रेणी में इन्फ्रास्ट्रक्चर नॉमिनी अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया।
  3. आईईओटी ने नार्वे के जियोटेक्निकल इंस्टीट्यूट (NGI), ओस्लो, नॉर्वे द्वारा शुरू किए गए एक अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त उद्योग अनुसंधान परियोजना (JIP) में सह भाग किया, इस परियोजना मे (इन-सीटू) कोन पेनेट्रेशन टेस्ट के आधार पर अपतटीय प्लेटफार्मों के पाइल की अक्षीय क्षमता के मूल्यांकन के लिए नई पद्धति विकसित करने की दिशा मे कार्य किया जाएगा, इस संयुक्त उद्योग अनुसंधान परियोजना (JIP) मे ओएनजीसी के अलावा कुल 9 अन्य वैश्विक प्रतिभागी जैसे टोटल, इक्विनोर, बीपी, एक्सॉनमोबिल, आदि शामिल है । समझौते पर 20 सितंबर, 2019 को हस्ताक्षर किए गए थे।
  4. आईईओटी ने राष्ट्रीय धातुकर्म प्रयोगशाला, जमशेदपुर के साथ सहयोगी अनुसंधान प्रोजेक्ट ”वाटर इंजेक्शन पाइपलाइनों के लिए कार्बन स्टील के संक्षारण प्रतिरोध को बढ़ाने के लिए क्रोम माइक्रो-अलॉयनिंग / माइक्रोस्ट्रक्चर के लाभों का अध्ययन' को 15 अप्रैल, 2019 पूर्ण किया। यह प्रोजेक्ट 17 अप्रैल -2016 को शुरू हुआ।
  5. आईईओटी ने ने दो इन-हाउस सॉफ्टवेयर्स, HOST (हैजार्ड एंड ऑपरैटिबिलिटी सॉफ्टवेयर टूल) और GALLOP (ग्रुप एनालिसिस ऑफ लेटरली लोडेड ऑफशोर पाइल्स) विकसित किया है। ये सॉफ्टवेयर क्रमशः हैजाफ और ऑपरेटीबीलीटी अध्ययन और अपतटीय जैकेट प्लेटफार्मों के पुन: योग्यता / संशोधन के लिए PAAILS और कंडक्टरों के समूह विश्लेषण करने में उपयोगी होंगे।
  6. आईईओटी ने 23 जीवन विस्तार और संरचनात्मक अखंडता मूल्यांकन, 14 भू-तकनीकी अध्ययन, 14 पदार्थ और क्षरण अध्ययन और 31 QRA, HAZOP और HAZID अध्ययन किए।
  7. वर्ष 2019 के दौरान आईईओटी ने ओएनजीसी के 11 प्लेटफार्मों के लिए “ क्रिटिकलिटी और मेंबर इम्पॉर्टेन्स” विश्लेषण के आधार पर टाइप- III अंडरवाटर इंस्पेक्सन जोइंट्स के लिए अनुकूलन किया, जिसके परिणामस्वरूप ओ एनजीसी को साथ 96 जोइंट्स के लिए 24 दिनों के निरीक्षण बार्ज समय की महत्वपूर्ण बचत होगी।
  8. आईईओटी द्वारा कच्छ- सौराष्ट्र अपतटीय क्षेत्र में जीएस - ओएसएन -2004 / 1 ब्लॉक के एचपीएचटी कुओं के लिए उपयुक्त धातु की सिफारिश को एफडीपी में शामिल किया गया था, जिससे लागत में काफी कमी आई।
  9. आईईओटी द्वारा साउथ बानसकंडी जीसीएस में किए गए QRA अध्ययन के आधार पर GCS के भीतर डेवलेपमेंट वेल BKAC की ड्रिलिंग की गयी और भूमि अधिग्रहण की समस्या दूर हो गयी
  10. आईईओटी द्वारा किए गए R-12F (फ्लेयर) जैकेट के जीवन विस्तार अध्ययन के आधार पर, R-12F फ्लेयर जैकेट को प्रमाणीकरण एजेंसी M / s RINA द्वारा "उद्देश्य के लिए फिट" के लिए अक्टूबर 2023 तक प्रमाणित किया गया है।
  11. आईईओटी ने हाल के अंडरवाटर निरीक्षण की टिप्पणियों के आधार पर ICG प्रक्रिया मंच की संरचनात्मक पर्याप्तता पर दोबारा गौर किया और ICG मंच के जीवन विस्तार के लिए सिफारिशों को आगे बढ़ाया। नियामक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए M / s RINA ने जीवन विस्तार प्रमाणपत्र जारी किया है
  12. नीलम हीरा परिसंपत्ति की आवश्यकता अनुसार, आईईओटी ने प्रमुखता से विश्लेषण किया और मानसून के दौरान मॉड्यूलर रिग की प्रस्तावित तैनाती के लिए मानव संसाधन मंच के जैकेट संरचना की संरचनात्मक अखंडता का दस्तावेजीकरण करने के लिए इनपुट प्रदान किया। इससे रिग निष्क्रिय लागत के कारण पर्याप्त बचत हुई है।
  13. आर के घनकर, मुख्य महाप्रबंधक (सिविल)-हेड जियोटेक्निकल सेक्शन आईईओटी द्वारा लिखित तकनीकी पत्र शीर्षक “ मेथड्स यूज्ड टु डिटरर्माइन मेक्सिमम मिनिमम ड्राइ वेट यूनिट ऑफ सेंड: इस देयर ए नीड फॉर न्यू स्टैंडर्ड”, जियोटेक जर्नल कनाडा में प्रकाशित हुआ है। जियोटेक। जर्नल। 56: 536–553 (2019) dx.doi.org/10.1139/cgj-2017-0738www.nrcresearchpress.com/cgj