Navigation Menu

Latest Tweets

institute-drilling-technology



तेल और गैस के ड्रिलिंग कार्यों की अपार चुनौतियों से निपटने के लिए 1978 में देहरादून में इंस्टीट्यूट ऑफ ड्रिलिंग टेक्नोलॉजी (IDT) की स्थापना की गई थी। वर्षों से समर्पित, कुशल और अनुभवी कार्यबल की सेवाओं के साथ यह संस्थान; आर&डी, टेक्नॉलॉजी इंडक्शन और प्रशिक्षण के क्षेत्र में "सेंटर ऑफ एक्सलेन्स" के रूप में उभरा है। यह कंपनी की ईएंडपी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए ओएनजीसी की विभिन्न केंद्रो के विभिन्न क्षेत्रों की समस्याओं के लिए अपनी लागत प्रभावी तकनीकी-आर्थिक विशेषज्ञता और समाधान प्रदान करता है। समृद्ध प्रशिक्षण तत्वों के साथ आर एंड डी के फलों को सम्मेलित करने के रणनीतिक लाभ ने इसकी प्रभावकारिता को बढ़ाया है।

वित्त वर्ष 2019-20 की महत्वपूर्ण विशेषताएं:

  • 2019-20 के दौरान, कुल 3326 प्रतिभागियों को आईडीटी में प्रशिक्षित किया गया है, जो अभी तक है।
  • " एसओपी ऑफ ड्रिलिंग ऑपरेशन " और "सीमेंटिंग मैनुअल "  को संशोधित किया गया है और एक नया "ऑपरेशनल मैनुअल कम हैंड बुक ऑफ कम्प्लीशन फ्लुइड "  प्रकाशित किया गया है।
  • इंटरएक्टिव वर्कशॉप / मीटिंग निम्नलिखित पर आयोजित की गई : " ऑफशोर ड्रिलिंग ऑपरेशंस " , "सीमेंटिंग टेक्नोलॉजी मीट " , "ड्रिलिंग फ्लूइड  और कम्प्लीशन फ्लुइड  टेक्नोलॉजी मीट " और "डाउन होल कॉम्प्लीकेशन्स "
  • आईडीटी ने ONGC Videsh Limited (ओवीएल) के साथ आईडीटी द्वारा प्रदान की जाने वाली वेल डिजाइन सेवाओं को करने के लिए अनुबंध किया है।

2019-20 की महत्वपूर्ण परियोजनाएं:

1. मेक इन इंडिया पहल के तहत LTSOBM (लो टॉक्सिक ऑयल बेस मड) के लिए IOCL और BPCL के बेस ऑयल का विकास, आयातित बेस ऑयल के विकल्प के रूप में करना।
IDT और IOCL ने CPSE कॉन्क्लेव में माननीय प्रधान मंत्री द्वारा निर्धारित " एकीकृत अभिनव और अनुसंधान " थीम शीर्षक के तहत सहयोग करार किया। आईओसीएल और बीपीसीएल के स्वदेशी बेस ऑइल का विकास आयातित बेस ऑयल को बदलने और मेक इन इंडिया पहल के उद्देश्य के अनुसार कीमती विदेशी मुद्रा को बचाने के लिए भारतीय निर्माताओं को प्रोत्साहित करने के लिए एक महान कदम है।

2. नॉन डिस्पेर्ड मॅड सिस्टम में KCl के बदले में उपयुक्त पदार्थ ।
शेल अवरोधक के रूप में ड्रिलिंग द्रव प्रणाली में KCl के उपयोग पर पर्यावरण संबंधी चिंताएं हैं। IDT ने K2SO4 को ड्रिलिंग द्रव प्रणाली के डिजाइन में KCl के स्थानापन्न पदार्थ के रूप में पहचाना है। इसे ओएनजीसी के क्षेत्रों के लिए लागू किया गया है।

3. मुंबई अपतटीय कुओं के लिए समुद्र के पानी का उपयोग करते हुए ड्रिल्लिंग मॅड की डिजाइनिंग।
लैब अध्ययनों के आधार पर, आईडीटी ने कुएं के विभिन्न चरणों के ड्रिलिंग में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न ड्रिलिंग मॅड प्रणालियों के डिजाइन के लिए समुद्र के पानी के उपयोग की सिफारिश की। यह फ्रेश तकनीकी पानी की आवश्यकता को कम करने में मदद करेगा और साथ ही ड्रिलिंग मॅड की लागत को कम करेगा।

4. सीमेंट घोल के लिए स्वदेशी डिफॉमर का पता लगाना।
IDT ने ड्रिलिंग और सीमेंट अनुप्रयोगों में चुनौतियों को कम करने के लिए एक इको-फ्रेंडली डिफ़ोमर की खोज की है। यह कम विषाक्त और आसानी से बायोडिग्रेडेबल है जो पर्यावरण के अनुकूल और लागत प्रभावी एडिटिव्स है। यह क्षेत्र कार्यान्वयन के लिए प्रक्रिया में है।

5. PAN-IIT-ONGC आर&डी सहयोग के तहत परियोजनाएँ:
      1. ड्रिलिंग पर्यवेक्षकों के लिए व्यापक इंटरैक्टिव वेल मॉनिटरिंग सॉफ्टवेयर टूल का विकास। (आईडीटी और आईआईटी गुवाहाटी): परियोजना फरवरी 2020 में पूरी हो गई है।
      2. उच्च दबाव और उच्च तापमान (एचपीएचटी) कुओं के लिए एक कंपलीशन फ्लुइड का डिजाइन और विकास। (आईडीटी और आईआईटी चेन्नई): परियोजना जारी है।
      3. ड्रिलिंग तरल पदार्थ में उपयोग के लिए 250⁰C तक तापमान स्थिरता के लिए बहुलक / जैव बहुलक विस्कोसिफायर (जैसे जंथम गम) का विकास। (आईडीटी और आईआईटी रुड़की): परियोजना जारी है।

6.2019-20 के दौरान पेटेंट दायर:
‘तेल और गैस कुओं के ड्रिलिंग लिए डिसीजन सपोर्ट सिस्टम' शीर्षक से एक आईपीआर दायर किया गया, जो कि IDT और IIT, गुवाहाटी के बीच PAN IIT आर&डी परियोजना का उत्पाद है।